News & Events

सुविचार

 *"जीवन में दो मूल विकल्प होते हैं: स्थितियों को उसी रूप में स्वीकार करना जैसी वे हैं, या उन्हें बदलने का उत्तरदायित्व स्वीकार करना।"*

*💐Good Morning💐*

योग जीवन जीने की एक कला है

 आंतरिक उर्जा के लिए योग एक महत्वपूर्ण विधा 

 

भारत की प्राचीन विधा योग विश्व को निरोगी काया के साथ मानसिक शांति प्रदान करने वाली है। नियमित आसन और प्राणायाम हमें निरोगी तथा स्वस्थ रखता है। ध्यान का अभ्यास तनावरहित रखने के साथ कार्य-कुशलता बढ़ाता है। योग न केवल शारीरिक क्रियाओं को दुरुस्त रखता है वरन आध्यात्मिक विकास में भी सहायक होता है। जिसके चलते हम किसी भी बात पर अपना ध्यान केन्द्रित करना सीख जाते हैं।

आज हमारी युवाशक्ति को और अधिक उर्जावान बनाने की जरुरत है ऐसे में योग को अपनाने से शरीर दिन-प्रतिदिन सुडौल और स्फूर्तिदायी बनते हुए आलस्य दूर होकर नई उमंगनया जोश प्रदान करता है। 

यदि आंतरिक ऊर्जा चाहिए और इसका एक ही सशक्त मार्ग है योग। योग व्यायाम नहींयोग विज्ञान का चौथा आयाम है। योग का अर्थ ही जोड़ना होता है। हमारा शरीर पाँच इन्द्रियों के समन्वय से ही कार्य करता है। कानत्वचाआँखजीभ व नाक क्रमश: एक-दूसरे के पूरक हैं। योग एक ऐसी औषधि है जो बिना मूल्य आप को स्वस्थ शरीर प्रदान कर आत्मविश्वास बढ़ा सकती है।शारीरिक ही नहींबल्कि मानसिक और भावनात्मक रूप से भी स्वस्थ होना हमारे निरोगी होने का प्रमाण है। योग से मिली गतिशीलता बताती है कि आप कितने आनंदप्रेम और ऊर्जा से भरे हुए हैं।

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि दुनिया का पहला सुख है निरोगी काया और मन का प्रसन्न होना। आइये योग दिवस पर संकल्प लें कि हम इस प्राचीन विधा को आत्मसात करेंसाथ ही अपने आस-पासमित्रों और शुभचिंतकों को भी स्वस्थ रहने के लिए योग अपनाने के लिए प्रेरित करें। आप सभी को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की हार्दिक शुभकामनायें . 

सफलता

सफलता का यह रहस्य है की
जब आप सफलता को उतनी ही
बुरी तरह से चाहोगे जितना की
आप सांस लेना चाहते हो
तो वो आपको मिल जाएगी"